नुसरत जहां : 2019 लोकसभा की सबसे खूबसूरत सांसद की कहानी

संसद में कई बॉलीवुड अभिनेत्रियां पहुंची है, रेखा और जयाप्रदा जैसी अभिनेत्रियां भी यहां पहुंची है तो जयाप्रदा की खूबसूरती ने खूब सुर्खियां बटोरी है, लेकिन 2019 के लोकसभा चुनाव में पश्चिम बंगाल से टीएमसी सांसद नुसरत जहां ( TMC MP Nusrat jahan ) की खूबसूरती ने हर किसी का ध्यान अपनी ओर खींचा. नुसरत जहां ममता बनर्जी की पार्टी तृणमूल कांग्रेस ( TMC ) के टिकट पर बंगाल की बशीरहाट लोकसभा सीट से करीब 3.5 लाख वोटों से जीत कर संसद पहुंची है.

संसद परिसर में TMC सांसद नुसरत जहां
नुसरत जहां
नुसरत जहां ( Actress Nusrat Jahan )

नुसरत जहां (Nusrat Jahan) का जन्म 8 जनवरी, 1990 को बंगाल में हुआ था. पहले जमशेदपुर के बिजनसमेन विक्टर घोष के साथ रिश्तों की खबरें आई लेकिन 19 जून 2019 में टर्की के बोरडम में बंगाल के ही टॉप बिजनेसमैन निखिल जैन (Nikhil Jain) से शादी की है. हालांकि उन्हौने ये शादी भारत में करने की बजाय नुसरत जहां और निखिल जैन की शादी तुर्की में हुई, खास बात ये है कि नुसरत मुस्लिम है लेकिन नुसरत जहां और निखिल जैन की शादी हिंदू रीति-रिवाज से संपन्न हुई.

View this post on Instagram

Towards a happily ever after with @nikhiljain09 ❤️

A post shared by Nusrat (@nusratchirps) on

बंगाली एक्ट्रेस और टीएमसी सांसद नुसरत जहां (Nusrat Jahan) ने अपने एक्टिंग करियर की शुरुआत शोत्रू से की है. इसके बाद वह खोका 420 और लव एक्सप्रेस जैसी फिल्मों में भी नजर आईं. नुसरत जहां ने 2010 में मिस कोलकाता फेयर-वन ब्यूटी कांटेस्ट जीतने के बाद अपना मॉडलिंग करियर शुरू किया .

View this post on Instagram

#blue #throwbacktimes❤️ #stylequotient

A post shared by Nusrat (@nusratchirps) on

नुसरत जहां 2019 में सबसे ज्यादा चर्चा में रही है, वो अपनी खूबसूरती के साथ साथ धार्मिक वजहों से भी चर्चा में रही. मुस्लिम होने के बावजूद उन्हौने हिंदू रीति रीवाजों के साथ जैन धर्म के व्यक्ति से विवाह किया. होली के अवसर पर सिंदूर की होली खेलेने की वजह से भी वो मुस्लिम कट्टरपंथियों के निशाने पर रही थी. उसने खुद कोलकाता के दुर्गा पांडाल में मां दुर्गा का आशीर्वाद लेते तस्वीरें इंस्टाग्राम और ट्वीटर पर शेयर की थी. हालांकि बाद में देवबंद के मुस्लिम उलेमा के बयानों पर पलटवार करते हुए कहा था कि जिन लोगों ने उनका नाम नहीं रखा है, उन्हैं नाम बदलने का हक नहीं है.

सिंदूर और मंगलसूत्र पहने नुसरत जहां

आपको बता दें कि सिंदूर लगाने और मंगलसूत्र पहनने को लेकर उत्तर प्रदेश के देवबंद के उलेमाओं ने Nusrat jahan के खिलाफ धर्म के साथ नाम भी बदलने का फतवा जारी किया था. मुस्लिम उलेमाओं की धमकियों के बावजूद नुसरत ने दीपावली के मौके पर भी खुद को दुल्हन की तरह सजाया और पूरे हिंदू रीति रिवाजों से त्यौहार मनाया था.

आपको बता दें कि वो संसद में भी काफी सक्रिय और बेबाक रहती है. पहली बार संसद में पहुंची नुसरत ने नारेबाजी के बीच बिना घबराए ईश्वर के नाम की शपथ ली थी. वो किसी भी तरह के धार्मिक दबावों में नहीं आती है और उसके बाद भी अपने लोकसभा से जुड़े कई मुद्दे संसद में उठाती रहती है.

ये भी पढें-

Facebook Comments