Saudi Prince ने कहा, अगर ईरान नहीं रुकेगा तो हम तेल के दाम को बढ़ा देंगे !

Saudi Prince said if Iran does not stop then we will increase the price of oil
Saudi Prince said if Iran does not stop then we will increase the price of oil

ईरान के साथ चल रहे विवाद के बीच सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस (Saudi Prince) मोहम्मद बिन सलमान ने कहा है कि अगर ईरान को रोकने के लिए दुनिया ने हमारा साथ नहीं दिया तो तेल के दाम अप्रत्याशित रूप से बढ़ेंगे। दरअसल इसी महीने की शुरुआत में सऊदी की तेल कंपनी अरामको की दो रिफाइनरियों पर ड्रोन और मिसाइल हमले के बाद प्रिंस सलमान ने पहली बार इस मुद्दे पर बयान दिया है।

सऊदी प्रिंस (Saudi Prince) सलमान ने कहा कि पूरी दुनिया के देशों को ईरान के खिलाफ कार्रवाई में शामिल होना होगा, वरना इससे सभी को नुकसान पहुंच सकता है। मालूम हो कि तेल संयंत्रों पर हुए हमले की जिम्मेदारी यमन के हूती विद्रोहियों ने ली थी, जबकि सऊदी अरब ने ईरान को इसका जिम्मेदार ठहराया था।

वहीँ अमेरिका ने भी इन हमलो के लिए ईरान को जिम्मेदार बताया था। आपको बता दें की अमेरिका ने ईरान के खिलाफ लगाए गए प्रतिबंधों में बढ़ोतरी कर दी है। बीते 20 सितंबर को अमेरिका ने ईरान के केंद्रीय बैंक और एक डेवलपमेंट फंड को भी प्रतिबंध के दायरे में ले लिया है, सऊदी के तेल संयंत्रों पर हुए हमले के बाद यह अमेरिका की बड़ी कार्रवाई है। 

इस युद्ध से दुनिया की अर्थव्यस्था पर पड़ेगा बुरा असर !

सऊदी प्रिंस (Saudi Prince) सलमान ने कहा कि ईरान के खिलाफ लड़ाई में दुनिया साथ नहीं आई तो सभी प्रभावित होंगे। एक अमेरिकी चैनल को दिए गए साक्षात्कार में सलमान ने कहा कि सऊदी अरब के तेल संयंत्रों पर हमला ईरान की तरफ से युद्ध की शुरुआत थी। इसके बावजूद वे युद्ध नहीं करना चाहते। वह ईरान के साथ विवाद का सैन्य नहीं बल्कि राजनीतिक हल चाहते हैं। 

आगे उन्होंने बताया कि युद्ध से पूरी दुनिया की अर्थव्यवस्था पर बुरा असर पड़ेगा। और ईरान की वजह से तेल की सप्लाई बाधित होगी। तेल के दाम इतने ऊपर पहुंच जाएंगे, जितने हमने अपने पूरे जीवन में नहीं देखे होंगे।

ईरान शुरू से कर रहा है इंकार !

आपको बता दें की ईरान शुरू से ही सऊदी और अमेरिका के आरोपों से इनकार करता रहा है और इससे इत्तेफाक रखता है कि इसके पीछे यमन के हूती विद्रोहियों का हाथ हो सकता है। वहीं, सऊदी ने तेल संयंत्रों पर हमलों के पीछे ईरान का हाथ बताने के लिए हथियारों की एक प्रदर्शनी भी रखी थी। इसमें दावा किया गया था कि इतने आधुनिक हथियार हूती विद्रोही चला ही नहीं सकते। 

ईरान ने अमेरिका को भी एक राजनयिक नोट भेज कर सऊदी अरब के तेल क्षेत्रों पर हमले में अपनी किसी भी भूमिका से इनकार किया है। साथ ही आगाह किया कि वह किसी भी कार्रवाई का पूरी मजबूती से जवाब देगा। स्विट्जरलैंड के दूतावास के जरिए अमेरिका को औपचारिक नोट में ईरान ने जोर देकर कहा है कि इन हमलों में उसकी कोई भूमिका नहीं है।

Facebook Comments