Uttar Prdesh में भारी बारिश से अभी तक 55 की मौत, अगले 24 घंटे तक राहत नहीं !

heavy rain fall in Uttar Prdesh 55 people died and no relief for next 24 hours!
heavy rain fall in Uttar Prdesh 55 people died and no relief for next 24 hours!

Uttar Prdesh में तीन दिन से मूसलाधार बारिश अब जानलेवा साबित होने लगी है। सूबे में बारिश से गांवों में बड़े पैमाने पर कच्चे और जर्जर मकान व पेड़ धराशायी हो गए। जिनमें दबकर 55 लोगों की मौत हो गई।

पिछले चौबीस घंटे में अवध क्षेत्र में 15, प्रयागराज में 14 पूर्वांचल  में 17, बुंदेलखंड में सात, सहारनपुर और कानपुर में एक-एक व्यक्ति ने जान गंवाई है। उधर, लगातार बारिश को देखते हुए लखनऊ जिला प्रशासन ने आज भी इंटर तक के सभी स्कूलों में अवकाश घोषित कर दिया है।

अवध क्षेत्र में सबसे ज्यादा नुकसान उत्तर प्रदेश (Uttar Prdesh) के अमेठी जिले में हुआ जहां दीवारें गिरने से एक दंपती समेत सात लोगों की मौत हो गई। जबकि बाराबंकी में तीन, अंबेडकरनगर में दो और सीतापुर, अयोध्या व रायबरेली में एक-एक व्यक्ति की जान चली गई। वहीं रुदौली, मिल्कीपुर, अमानीगंज, पटरंगा में दीवार व घर ढहने से लोगों के घायल होने की सूचना है।

जबकि उत्तर प्रदेश (Uttar Prdesh) के प्रयागराज और उसके आसपास के जिलों में सैकड़ों घर गिर गए हैं। यहां प्रतापगढ़ में घर के मलबे में दबने से नौ लोगों की मौत हो गई, जबकि 25 से भी अधिक लोग घायल हो गए। 26 सितमबर शाम तक लगातार बारिश होने से सरकारी दफ्तरों, स्कूलों और घरों में पानी घुस गया।

अगर हम बात करें उसके आस-पास के जिलों की तो कौशाम्बी के सिराथू में दीवार ढहने से किशोर न्याय बोर्ड के पीठासीन अध्यक्ष विनय मिश्रा की मौत हो गई, जबकि प्रयागराज के मऊआईमा व हंडिया में कच्चे मकान ढहने से तीन लोगों की मौत हो गई।

आपको बता दें की उत्तर प्रदेश (Uttar Prdesh) पूर्वांचल के विभिन्न जिलों में लगातार दूसरे दिन भी बारिश के चलते चलते 160 से अधिक कच्चे मकान गिर गए। इसके मलबे में दबने से 13 लोगों की जान चली गई। मरने वालों में चंदौली में मां और दो बेटों समेत पांच, भदोही में दंपती समेत तीन, वाराणसी में तीन तथा आजमगढ़-जौनपुर में एक-एक ने जान गंवाई। कई जिलों में बिजली आपूर्ति ठप रही।

वहीं, आज मिर्जापुर शहर कोतवाली इलाके के घंटाघर मोहल्ले में शनिवार की भोर में मूसलाधार बारिश के चलते एक मकान भरभराकर गिर गया। जिसमें दबकर बुजुर्ग दंपती और उनके पुत्र की मौत हो गई। 

बलिया के बांसडीह कोतवाली क्षेत्र के रघुबर नगर में कच्चा घर गिर गया। घर में सोईं मां और तीन बच्चे घायल हो गए। घायलों को अस्पताल में ले जाया गया। यहां डॉक्टरों ने एक को मृत घोषित कर दिया, घायलों का इलाज चल रहा है। 

चंदौली के नियामताबाद ब्लाक के अलीनगर थाना क्षेत्र के बरहुली गांव में शुक्रवार भोर में मकान की दीवार गिरने से बगल में झोपड़ी में सो रहीं मुनेसरा देवी (70) पत्नी स्व. बल्ली पाल और उनके दो पुत्रों मुरारी पाल (50) और राधे पाल (45) की मौत हो गई। सैयदराजा के हलुवा गांव में मकान की दीवार गिरने से उमेश की बेटी डिंपल (11) की मौत हो गई, जबकि एक लड़की घायल हो गई। 

चकिया कोतवाली क्षेत्र के मूसाखाड़ गांव में कच्ची दीवार गिरने से विफनी देवी (52) की मौत हो गई। कंदवा, चकिया तथा अन्य इलाकों में 10 कच्चे मकान ढह गए। चकिया-अहरौरा मार्ग पर सुबह आठ बजे पेड़ गिरने से ढाई घंटे आवाजाही बाधित रही

मकान के मलबे में दबने से तेवर दलपति गांव में रामखेलावन (60), राजापुर गांव में कांताराम (54) और बेला धर्मपुर गांव में पन्ना लाल (65) की मौत हो गई। इसके अलावा शहर के दशाश्वमेध और कबीरचौरा इलाके में भी एक-एक मकान ध्वस्त हो गए।

जौनपुर में 20 से अधिक कच्चे मकान गिर गए। शाहगंज के गोड़िला गांव में मकान के मलबे में दबने से सिद्धांत (04) की मौत हो गई और अन्य हादसों में छह लोग घायल हो गए।

मौसम विभाग का क्या कहना है !

आंचलिक मौसम केंद्र के डायरेक्टर जेपी गुप्ता ने बताया कि अभी दक्षिण-पश्चिमी उत्तर प्रदेश में चक्रवात का प्रभाव बना हुआ है, साथ ही बंगाल की खाड़ी से आ रही पूर्वी हवा की वजह से जोरदार बारिश हो रही है। उन्होंने बताया कि प्रदेश के पूर्वी हिस्सों में लगभग सभी स्थानों पर पश्चिमी हिस्सों में कुछ जगहों पर बारिश हो रही है।

Facebook Comments