Nirmala Sitharaman ने Corporate tax में की कटौती, लोगो को हुआ मुनाफा !

finance minister Niramala Sitharamn cuts the corporate tax in today press confrence
finance minister Niramala Sitharamn cuts the corporate tax in today press confrence

वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) द्वारा कॉर्पोरेट टैक्स (Corporate tax) में छूट के एलान ने शेयर बाजार में निवेशकों को अच्छा मुनाफा दे दिया है। दरअसल कॉर्पोरेट क्षेत्र को टैक्स बोनस दिए जाने के कुछ ही समय के अंदर दलाल स्ट्रीट के निवेशकों ने पांच लाख करोड़ रुपये कमाए।

आपको बता दें निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) ने कॉर्पोरेट टैक्स (Corporate tax) में कटौती करने के बाद घरेलू कंपनियों पर बिना किसी छूट के इनकम टैक्स 22 फीसदी रहेगा। जबकि सरचार्ज और सेस जोड़कर प्रभावी दर 25.17 फीसदी होगी। पहले यह दर 30 फीसदी थी। कैपिटल गेन पर सरचार्ज खत्म हो गया है।

बीते दिन 138.54 लाख करोड़ रुपये की तुलना में टैक्स में छूट की घोषणा के बाद बीएसई बाजार पूंजीकरण बढ़कर 143.45 लाख करोड़ पर पहुंच गया। इस दौरान बाम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) के सेंसेक्स में 1800 अंकों की बढ़त और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) के निफ्टी में 500 अंकों की बढ़त देखी गई। बीएसई और निफ्टी में पिछले एक दशक में आज के दिन रिकॉर्ड तेजी दर्ज की गई है।

वित्त मंत्री ने किए ये एलान

सरकार ने आर्थिक वृद्धि दर को गति देने के लिये बड़ी घोषणा करते हुए आज कॉर्पोरेट कर (Corporate tax) की प्रभावी दर घटा दी। अब घरेलू कंपनियों के लिये सभी अधिशेषों और उपकर समेत कॉरपोरेट कर (Corporate tax) की प्रभावी दर 25.17 फीसदी होगी। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि नई दर इस वित्त वर्ष के एक अप्रैल से प्रभावी होगी। 

कॉर्पोरेट कर की दर घटाने से राजस्व में सालाना 1.45 लाख करोड़ रुपये की कमी का अनुमान है। वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि यदि कोई घरेलू कंपनी किसी प्रोत्साहन का लाभ नहीं लेती है, तो उसके पास 22 फीसदी की दर से आयकर भुगतान करने का विकल्प होगा।

जो कंपनियां 22 फीसदी की दर से आयकर भुगतान करने का विकल्प चुन रही हैं, उन्हें न्यूनतम वैकल्पिक कर का भुगतान करने की जरूरत नहीं होगी। अधिशेषों और उपकर समेत प्रभावी दर 25.17 फीसदी होगी।

निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) सीतारमण ने कहा कि एक अक्टूबर के बाद बनी नई घरेलू विनिर्माण कंपनियां बिना किसी प्रोत्साहन के 15 फीसदी की दर से आयकर भुगतान कर सकती हैं। नई विनिर्माण कंपनियों के लिये सभी अधिशेषों और उपकर समेत प्रभावी दर 17.01 फीसदी होगी।

हाल ही में विपक्ष एक जुट होकर मोदी सरकार पर सवाल खड़े कर रहा था और देश को मंदी के दौर से गुजरने के लिए मोदी सरकार पर तरह-तरह के आरोप लगा रहा था, आपको ज्ञात हो की PM मोदी ने अपनी सरकार के आने वाले साल के लिए 5 ट्रिलियन इकॉनमी का लक्ष्य रखा है अब देखना ये है की मोदी सरकार अपने किये इस वादे को निभा पाती है या नहीं, ये तो आने वाला वक़्त ही बताएगा।

Facebook Comments