Amit Shah के हिंदी वाले बयान पर Kamal Haasan ने दिया ये जवाब !

kamal haasan big attack on amit shah statement
kamal haasan big attack on amit shah statement "hindi is a national language"

अभिनेता से नेता बने कमल हासन (Kamal Haasan) ने आज केंद्र सरकार को ‘एक देश, एक भाषा’ को बढ़ावा देने के खिलाफ चेतावनी दी है। एक विडियो जारी कर कमल ने अप्रत्यक्ष रूप से केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) पर हमला करते हुए कहा है कि भारत 1950 में ‘अनेकता में एकता’ के वादे के साथ गणतंत्र बना था और अब कोई ‘शाह, सुल्तान या सम्राट’ इससे इनकार नहीं कर सकता है।

दरअसल केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) द्वारा देश की साझी भाषा के तौर पर हिंदी को अपनाने की वकालत करने के बाद हंगामा शुरू हो गया है। वैसे इस बार के लोकसभा चुनाव में भी कमल हसन (Kamal Haasan) ने अपने बयानों के चलते खूब सुर्खियां बटोरी थी।

इस वीडियो में कमल हासन अशोक स्तंभ और संविधान की प्रस्तावना के बगल में खड़े हैं। उन्होंने कहा कि भारत 1950 में लोगों से एक वादा करने के साथ गणतंत्र बन गया कि उनकी भाषा और संस्कृति की रक्षा की जाएगी।

आगे उन्होंने कहा कि कोई भी शाह, सुल्तान या सम्राट अचानक उस वादे को नहीं तोड़ सकते। हम सभी भाषाओं का सम्मान करते हैं लेकिन हमारी मातृ भाषा हमेशा तमिल रहेगी। जल्लीकट्टू सिर्फ एक विरोध था। हमारी भाषा की लड़ाई इससे कहीं बड़ी होगी। 

जैसा की आपको मालूम है की 2019 के लोकसभा चुनाव में भी उन्होंने भाजपा का जमकर विरोध किया था लेकिन उनके इस विरोध का नतीजा उनके सामने है। भाजपा को पिछली बार से ज्यादा प्रचंड बहुत मिला और 2019 के लोकसभा चुनाव में दोबारा सत्ता में आई।

अमित शाह के बयान पर गरमाई सियासत !

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने 14 सितम्बर को अपने एक भाषण के दौरान संबोधित करते हुए, देश की साझी भाषा के तौर पर हिंदी को अपनाने की वकालत की थी, जिसके बाद इस मुद्दे पर चर्चा शुरू हो गई थी। दक्षिण के विभिन्न राजनीतिक दलों ने कहा कि वे भाषा को ‘थोपने’ के किसी भी प्रयास का विरोध करेंगे।

Facebook Comments