Ladakh को लेकर भारत के सामने आया चीन, तनाव के बाद अतिरिक्त फाॅर्स तैनात !

India army and china army will stand together for the issue of ladakh border
India army and china army will stand together for the issue of ladakh border

केंद्र सरकार के ऐतहासिक फैसले के बाद भारत लद्दाख (Ladakh) और जम्मू-कश्मीर (Jammu-Kashmir) में जल्द ही कई विभिन्न योजनओं को शुरू करेगी, वही पाकिस्तान भारत सरकार के इस फैसले से पूरी दुनिया में मदद की गुहार लगा रहा है। अभी तक सिर्फ चीन ने ही उसका साथ दिया है।

आपको बता दें की लद्दाख (Ladakh) को लेकर भारत और चीन के बीच एक बार फिर तनाव बढ़ गया है। दरअसल कल भारत और चीन के सैनिकों के बीच पैंगोंग झील के पास धक्का-मुक्की हुई। विवाद इतना बढ़ गया कि दोनों सेनाओं के बीच ब्रिगेडियर स्तर की फ्लैग मीटिंग के बाद मामला शांत हुआ। 

सूत्रों से मिली खबर के अनुसार, 134 किलोमीटर में फैली पेंगोंग झील के उत्तरी किनारे पर भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच धक्कामुक्की शुरू हुई। इस झील का दो तिहाई हिस्सा चीन के नियंत्रण में है क्योंकि इसका फैलाव लद्दाख (Ladakh) से लेकर तिब्बत तक फैला हुआ है।

जब भारतीय सैनिक अपने इलाके में गश्त पर थे तब उनका सामना पीपुल्स लिबरेशन आर्मी के सैनिकों से हुआ। भारतीय सैनिकों ने उनकी उपस्थिति पर कड़ी आपत्ति जताई। जिसके बाद दोनों देशों के सैनिकों के बीच धक्कामुक्की हुई। तनाव इतना बढ़ गया कि भारत और चीन ने उस क्षेत्र में अपने अतिरिक्त सैन्यबलों को तैनात कर दिया।

कल शाम तक दोनों तरफ सुरक्षबल एक दूसरे के सामने खड़ी रहे। दरअसल भारतीय सेना और वायुसेना अक्टूबर महीने में अरुणाचल प्रदेश के सीमाई इलाकों में एक संयुक्त युद्धाभ्यास करने जा रही हैं। इस युद्धाभ्यास में लगभग 5000 जवान हिस्सा लेंगे। इस युद्धाभ्यास का आयोजन चीन के साथ पर्वतीय क्षेत्र में युद्ध के दौरान 17 माउंटेन स्ट्राइक कोर को और अधिक प्रभावी बनाने के लिए किया जा रहा है।

चीन के लिए पाकिस्तान एक सोना देने वाली मुर्गी से काम नहीं है क्यूंकि चीन अभी तक तो पाकिस्तान से सटे कुछ इलाको तक ही सीमित था लेकिन अब उसने पाकिस्तान में अपने पैर पसारने शुरू कर दिए है।

पाकिस्तान ने चीन को अपने इलाके में तेल खोजने के लिए कुछ हिस्सा दिया है, जहां पर भरी मात्रा में चीनी सैनिक मौजूद है और इस जगह वह पाकिस्तान के एक भी सैनिक को घुसने नहीं देता।

अगर भारत और पाक्सितान के बीच युद्ध होता है तो इससे चीन को करोड़ो रुपए का नुकसान होगा क्यूंकि यहां पर चीन ने अपना एक बहुत महंगा प्लांट लगा रखा है। इसलिए फ़िलहाल तो चीन दबी आवाज़ में पाक्सितान का साथ दे रहा है लेकिन वह पाकिस्तान को ये सलाह नहीं देगा की वो भारत के साथ युद्ध करे।

Facebook Comments