Swami Chinmayanand Case, पीड़िता ने बताया “एक साल तक मेरे साथ किया रेप”

स्वामी चिन्मयानंद (Swami Chinmayanand) पर दुष्कर्म का आरोप लगाने वाली छात्रा ने अपने आवास पर प्रेस कांफ्रेंस कर दुष्कर्म के आरोपों को दोहराया है। आरोप लगाया कि पर्याप्त सुबूत होने के बावजूद उप्र पुलिस स्वामी चिन्मयानंद पर मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तार नहीं कर रही है।

वही स्वामी चिन्मयानंद (Swami Chinmayanand) के कहने पर उत्तर प्रदेश की पुलिस के डीएम ने भी लड़की के पिता को धमकाया और उनके निलंबन की मांग उठाई और जान का खतरा बताया। लड़की ने कहा की पिछले एक साल से मेरा शारीरिक शोषण किया जा रहा था। मेरे पास पर्याप्त सुबूत हैं, सही समय आने पर सौंपूंगी।

छात्रा ने यह भी कहा कि स्वामी ने उसे व उसके परिवार को जान से मारने की धमकी दी है। आगे छात्रा ने बताया की 8 सितम्बर को एसआइटी ने उससे 11 घंटे तक पूछताछ की। उसने कहा मुझे सवाल-जवाब से कोई दिक्कत नहीं है मगर आरोपित को जल्द गिरफ्तार किया जाना चाहिए।

जबकि साउथ दिल्ली लोधी कॉलोनी थाने में जीरो क्राइम नंबर पर स्वामी चिन्मयानंद के खिलाफ दुष्कर्म का मुकदमा दर्ज कराया है। अब उत्तर प्रदेश की पुलिस उस मुकदमे का स्थानान्तरण लेकर स्वामी को गिरफ्तार करे।

छात्रा ने डीएम और प्रशासन पर उठाए सवाल !

छात्रा ने ये आरोप लगाया कि पुलिस शासन व प्रशासन के दबाव में है इसलिए यहां रिपोर्ट लिखने को तैयार नहीं है। डीएम पर आरोप लगाया कि उन्होंने पापा को धमकाया इसलिए उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज होना चाहिए और डीएम को निलंबित किया जाए।

मैं जान बचाए इधर-उधर घूम रही थी और यहां डीएम मेरे पापा को धमकी देते हुए कह रहे थे कि देख लीजिए कि आप किसके खिलाफ शिकायत कर रहे हैं। यह बात सुप्रीम कोर्ट में भी बता चुकी हूं। बोली कि उत्तर प्रदेश पुलिस से जान का खतरा है इसलिए साउथ दिल्ली के लोधी कॉलोनी थाने में शिकायत दर्ज करानी पड़ी।

क्या है पूरा मामला ? 

पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद (Swami Chinmayanand) के कॉलेज में पढ़ने वाली छात्रा ने 24 अगस्त को वीडियो वायरल कर उन पर गंभीर आरोप लगाए थे। मामला सुप्रीम कोर्ट ने स्वत: संज्ञान में लिया। कोर्ट के आदेश पर एसआइटी पूरे प्रकरण की जांच कर रही है। छात्रा के पिता की ओर से स्वामी चिन्मयानंद पर अपहरण का मुकदमा, जबकि स्वामी के अधिवक्ता की ओर से अज्ञात के खिलाफ पांच करोड़ की रंगदारी मांगने का मुकदमा दर्ज है।

Facebook Comments