14th COP से बोले PM Modi, अब समय आ गया है Plastic को अलविदा कहने का !

https://www.swentoday.com/2019/09/09/p-chidambaram-defend-those-officers-who-involved-in-inx-media-case/
https://www.swentoday.com/2019/09/09/p-chidambaram-defend-those-officers-who-involved-in-inx-media-case/

आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ग्रेटर नॉएडा में आयोजित एक्सपो मार्ट में चल रहे 12 दिवसीय 14th (COP) समारोह में पहुंचे। आपको बता दें की COP (Confrence of Parties) समारोह से PM मोदी (PM Modi) ने जनता को सम्बोधित करते हुए ग्लोबल वार्मिंग जैसे विषय पर चिंता जताई।

सबसे पहले तो PM मोदी (PM Modi) ने सब का इस समरोह में स्वागत किया वही 14th (COP) समरोह में कई बड़ी वीवीआईपी भी मौजूद थे, यहां से उन्होंने सबसे पहले पर्यावरण को होते नुकसान के बारे में चिंता जताई और पुरे पर्यावरण में होता बदलाव एक चिंता का विषय है इससे हमें कुछ सिखने की जरुरत है।

इस समारोह में पाकिस्तान डेलिगेट्स की सीट खाली पड़ी रही। कार्यक्रम की शुरुआत केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने सरकार द्वारा किए जा रहे कार्यों के बारे में बताकर किया।

जिसके बाद उन्होंने बताया की इस समय पूरा विश्व क्लाइमेट चेंज की समस्या से जूझ रहा है।
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि भारत प्रकृति की रक्षा करने के हर प्रयास में आगे रहेगा।

वही आगे उन्होंने कहा की मैं यूएनसीसीडी के सदस्यों से जल संरक्षण योजना बनाने का आह्वान करता हूं, किसान की आय दोगुनी करने का भी प्रयास है और जीरो बजट नेचुरल फार्मिंग पर भी हम ध्यान दे रहे हैं। हम सिंगल यूज प्लास्टिक को गुड बाय कहने का हर प्रयास कर रहे हैं।

PM मोदी (PM Modi) ने कहा की आज, मुझे भारत का NDCS याद आ गया है जो UNFCCC में पेरिस कॉर्प में प्रस्तुत किया गया था। इसने भूमि, जल, वायु, पेड़ और सभी मनुष्यों के बीच एक स्वस्थ संतुलन बनाए रखने के लिए भारत की गहरी संस्कृति की जड़ों पर प्रकाश डाला।

उसके बाद उन्होंने किसानों के बारे में बात करते हुए बताया की मेरी सरकार ने विभिन्न उपायों के माध्यम से फसल की पैदावार बढ़ाकर किसानों की आय दोगुनी करने का कार्यक्रम शुरू किया है। इसमें भूमि बहाली और सूक्ष्म सिंचाई शामिल हैं।

आगे उन्होंने एलडीएन (LDN) को संबोधित करते हुए बताया की जल प्रबंधन एक और महत्वपूर्ण मुद्दा है। हमने जल संबंधी सभी महत्वपूर्ण मुद्दों को समग्रता में संबोधित करने के लिए “जल शक्ति मंत्रालय” बनाया है। जो इस पर महत्वपूर्ण रूप से काम करेगा।

Facebook Comments