Nitin Gadkari ने बताया, तेज स्पीड में गाड़ी चलाने पर मेरा भी चालान कट चुका है !

Nitin Gadkari said I have also paid fine for over speeding
Nitin Gadkari said I have also paid fine for over speeding

मोदी सरकार (Modi Government) के नए मोटर व्हीकल एक्ट (New Motor Vehicle Act 2019) के लागू होने के बाद देश भर में हंगामा मचा है, इस बीच केंद्रीय सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने भारी जुर्माने को सही ठहराया है.

नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने आज बताया की ‘मुझे भी मुंबई के बांद्रा वर्ली सी लिंक पर ओवरस्पीडिंग के लिए जुर्माना देना पड़ा. मुझे मेरे घर पर चालान मिला और मैंने जुर्माना भरा.’

जैसा की मालूम है कि नया मोटर व्हीकल एक्ट 1 सितंबर से पूरे देश में लागू हो गया है, पुलिस नए ट्रैफिक नियमों का पालन कराने के लिए रोजाना चेकिंग कर रही है और ड्राइविंग के लिए जरूरी कागजात नहीं होने पर भारी भरकम चालान काट रही है।

साथ ही एक्सीडेंट में अगर किसी की मौत हो जाती है, तो आरोपी से 5 लाख रुपये तक जुर्माना वसूला जाएगा, जबकि गंभीर रूप से घायल के लिए 2.5 लाख देने होंगे।

मोदी सरकार-2.0 के 100 दिन पूरे होने पर नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में ये बातें कही। गडकरी ने नए मोटर व्हीकल एक्ट (New Motor Vehicle Act 2019) को सही ठहराया।

दरअसल गडकरी ने कहा, ‘देश में सड़क सुरक्षा सुनिश्चित करने के उद्देश्य से ही ये एक्ट लाया गया है. क्योंकि, हाल ही में हमने नेशनल हाइवे पर 786 ब्लैक स्पॉट चिह्नित किए हैं। वहीं, 30 फीसदी ड्राइविंग लाइसेंस भी फर्जी पाए गए।

अभी तक मोटर वाहन एक्ट ने दिलाई मोदी सरकार को उपलब्धि !

नितिन गडकरी ने कहा कि मोटर यान संशोधन अधिनियम पारित करना हमारी सरकार की एक बड़ी उपलब्धि है। भारी जुर्माने से पारदर्शिता आएगी और इससे भ्रष्टाचार नहीं आएगा। गडकरी ने कहा कि भारत में अधिक संख्या में दुर्घटनाएं होने का कारण ऑटो इंजीनियरिंग के साथ-साथ सड़क इंजीनियरिंग भी है।

आगे उन्होंने कहा कि राज्य के विदर्भ क्षेत्र के छह जिलों को अगले पांच वर्षों में डीजल मुक्त बना दिया जाएगा और वाहन जैव ईंधन से चलेंगे। उन्होंने सरकार के अन्य प्रमुख निर्णयों का उल्लेख करते हुए कहा कि हमारी पहली उपलब्धि तीन तलाक विधेयक को पारित कराना और मुस्लिम महिलाओं के लिए न्याय सुनिश्चित करना है। यह एक ऐतिहासिक क्षण था।

Facebook Comments