Apache-64E आज हुआ भारतीय वायु सेना में शामिल, पठानकोट में होगा तैनात !

आज देश की वायु सेना में अपाचे (Apache AH-64E) हेलीकॉप्टर को शामिल किया गया है, आपको बता दें की इसे पठानकोट में तैनात किया जाएगा यह पाकिस्तान की सीमा से महज 30 किलोमीटर की दुरी पर है।

भारत ने 8 अपाचे (Apache AH-64E) हेलीकॉप्टर ख़रीदे है वही इन हेलीकॉप्टर्स को वाटर कैनन के द्वारा पानी की सलामी भी दी गई और एक भव्य कार्यक्रम के साथ पंडित ने मंत्रोचारण के साथ नारियल भी फोड़वाया।

वही इस कार्यक्रम के बाद सलिल गुप्ता ने कहा की, ये वही अपाचे हेलीकॉप्टर है जिन्हें US आर्मी भी इस्तेमाल करती है और उन्होंने बताया की ये बिलकुल लेटेस्ट टेक्नोलॉजी से लेस है, हमारे पास कुल 22 हेलीकॉप्टर्स है, जिनमें से 8 अपाचे (Apache AH-64E) हेलीकॉप्टर्स है।

दरअसल अपाचे तैनात करने का फैसला पठानकोट एयरबेस के रणनीतिक महत्व को देखते हुए लिया गया है। पठानकोट में तैनात अपाचे के स्क्वाड्रन कमांडर ग्रुप कैप्टन एम शायलू होंगे। बताया जा रहा है कि अपाचे दुनिया के बहु-भूमिका लड़ाकू हेलीकाप्टरों में से एक है।

अपाचे की तैनाती के बाद एयर चीफ मार्शल बी.एस.धनोवा ने मीडिया को बताया की ये हेलीकॉप्टर्स दुनिया में सबसे खतरनाक हतियार माने जाने वाले हेलीकॉप्टर्स है, आगे उन्होंने कहा की इस खतरनाक हेलीकॉप्टर ने कई खतरानक मिशंस को बड़े ही अच्छे तरीके से सामना किया है और आज का दिन भारत के लिए एक अच्छा दिन है, अब ये हमारी देश की शान और एयर फाॅर्स की शक्ति को दोगनी करने में हमारी मदद करेगा।

पंजाब के पठानकोट एयरबेस पाकिस्तान सीमा के सबसे करीब है और जैसा की आपको मालूम है की अनुच्छेद 370 हटाने के बाद भारत-पाक के मध्य पनपे विवाद के बीच अपाचे को पठानकोट एयरबेस पर तैनात करना पाकिस्तान को चेतवानी देना वाला काम है, ये भारत की रणनीति का हिस्सा है। इसके अलावा विभिन्न मारक क्षमताओं से लैस अपाचे एएच-64 ई हेलीकॉप्टर से चीन की सीमाओं को भी कवर किया जाएगा।

अभी तक अपाचे हेलीकॉप्टर के अमेरिका और रूस ही इसका इस्तेमाल करते आए है लेकिन अब भारत भी इस सूचि में आ गया है, आपको बता दें की 30 एमएम मशीन गन और एंटी टैंक मिसाइल से लैस हैं। हेलीकॉप्टर में जमीनी टारगेट भेदने वाले हाइड्रा अनगाइडेड रॉकेट भी हैं जो दुश्मन के इलाके में 150 नॉटिकल माइल प्रति घंटा की रफ्तार से उड़ने में सक्षम है।

Facebook Comments