G-7 समिट में शामिल होने के लिया PM Modi पहुंचे फ्रांस, हुआ जोरदार स्वागत !

PM Modi arrives in France to attend G-7 summit
PM Modi arrives in France to attend G-7 summit

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) देर शाम G -7 समिट में हिस्सा लेने फ्रांस पहुंच गए। पेरिस के चार्ल्स डी गॉल एयरपोर्ट पर फ्रांस के विदेश मंत्री ज्यां-वेस ले ड्रियन ने उनका स्वागत किया। भारतीय समुदाय भी बड़ी संख्या में मोदी को देखने के लिए एयरपोर्ट पहुंचा। फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों के निमंत्रण पर मोदी बियारेट्ज शहर में

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Modi) 24-26 अगस्त को होने वाले 45वें G -7 समिट में साझेदार के तौर पर शामिल होंगे। इससे पहले मोदी ने कहा कि इस यात्रा से समय-समय पर अच्छे दोस्तों की भूमिका निभाने वाले मित्रों से हमारे संबंध और मजबूत होंगे और सहयोग की नई संभावनाएं खुलेगी।

मोदी ने यात्रा पर रवाना होने के बाद एक के बाद ट्वीट कर अपने विदेश यात्रा की जानकारी दी। उन्होंने कहा, “फ्रांस में राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों और पीएम एडवर्ड फिलीप के साथ वार्ता के लिए तत्पर हैं। वर्ष 1950 और 1960 के दशक में फ्रांस में दो एयर इंडिया दुर्घटनाओं के शिकार हुए लोगों के लिए भारतीय प्रवासी स्मारक की स्थापना को लेकर बातचीत होगी।”

एक अन्य ट्वीट में मोदी ने कहा, “यूएई में अबू धाबी के क्राउन प्रिंस शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान के साथ बातचीत होगी। क्राउन प्रिंस और मैं बापू की 150वीं जयंती को चिह्नित करने के लिए एक डाक टिकट जारी करेंगे। रूपे कार्ड भी लॉन्च किया जाएगा, जो कई प्रकार से मदद करेगा।”

फ्रांस में भारतीय समुदाय को संबोधित करेंगे

जी-7 सम्मेलन के दौरान प्रधानमंत्री के पर्यावरण, जलवायु परिवर्तन, समुद्री सहयोग और डिजिटल परिवर्तन जैसे मुद्दों पर विचार रख सकते हैं। जी-7 शिखर सम्मेलन के अलावा मोदी अन्य देशों के नेताओं के साथ द्विपक्षीय मुलाकात भी करेंगे। 

प्रधानमंत्री पेरिस में भारतीय समुदाय को संबोधित भी करेंगे। इसके अलावा वह निड डी एगल में एयर इंडिया के विमान दुर्घटना में मारे गए भारतीय लोगों की याद में एक स्मारक का भी उद्घाटन करेंगे।

भारत और फ्रांस 1998 से रणनीतिक साझेदार

भारत और फ्रांस 1998 से रणनीतिक साझेदार हैं और दोनों देशों के बीच व्यापक और बहुआयामी संबंध हैं। इसके अलावा दोनों देशों के बीच रक्षा, समुद्री सुरक्षा, अंतरिक्ष, साइबर, आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई और असैन्य परमाणु ऊर्जा के क्षेत्र में मजबूत सहयोग है। 

विदेश मंत्रालय ने एक वक्तव्य जारी कर कहा कि मोदी की फ्रांस की द्विपक्षीय यात्रा और जी-7 शिखर सम्मेलन का निमंत्रण भारत और फ्रांस के बीच मजबूत एवं करीबी साझेदारी तथा उच्चस्तरीय राजनीतिक संपर्कों की परंपरा को ध्यान में रखते हुए है।

Facebook Comments