भारत के दबाव में आकर, पाकिस्तान ने दी Kulbhushan Jadhav को राजनयिक मदद !

India pressure on Pakistan, thats why Pakistan will give Kulhushan Jadhav counslar access from tomorrow
India pressure on Pakistan, thats why Pakistan will give Kulhushan Jadhav counslar access from tomorrow

आपको बता दें की हाल में ही द हेग स्थित अंतरराष्‍ट्रीय कोर्ट (ICJ) ने पाकिस्‍तान सरकार को आदेश दिया था कि, भारतीय नागरिक Kulbhushan Jadhav को राजनयिक पहुंच यानि (काउंसलर एक्‍सेस) की सुविधा प्रदान करेगा, इस सिलसिले में पाकिस्‍तान के विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता ने जाधव को शुक्रवार को काउंसलर एक्‍सेस देने का प्रस्‍ताव दिया है।

उन्‍होंने कहा कि Kulbhushan मामले में भारत को सूचित किया गया है और हम जवाब के इंतजार में है, इस पर भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्‍ता रवीश कुमार ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा, ”हम राजनयिक तरीके से पाकिस्‍तान से बातचीत कर रहे हैं और हम पाकिस्‍तान के प्रस्‍ताव पर विचार भी कर रहे हैं।

ICJ ने भारत के पक्ष में सुनाया था फैसला

दरअसल इससे पहले 17 जुलाई को पाकिस्तान की जेल में कैद भारतीय नागरिक Kulbhushan Jadhav के मामले में भारत की जबर्दस्त राजनयिक जीत हुई है, नीदरलैंड के हेग स्थित अंतर्राष्ट्रीय न्याय न्यायालय (ICJ) ने न केवल जाधव की फांसी की सजा पर रोक को बरकरार रखा बल्कि पाकिस्तान से इस पर पुनर्विचार करने के लिए भी कहा।

आईसीजे ने मामले में पाकिस्तान की तमाम आपत्तियों को खारिज कर दिया जिनमें इस मामले को सुनने की उसकी ग्राह्यता के खिलाफ दी गई दलील भी शामिल है और वही अदालत ने पाकिस्तान के इस तर्क ख़ारिज कर दिया कि भारत ने जाधव की वास्तविक नागरिकता की जानकारी नहीं दी है।

आपको बता दें कि पाकिस्तान ने मार्च 2016 में ईरान से अपहरण किया था भारतीय नौसेना के सेवानिवृत्त अधिकारी कुलभूषण जाधव को जासूसी और आतंकवाद के आरोप में 3 अप्रैल 2017 को पाकिस्तानी की एक अदालत ने मौत की सजा सुनाई थी, इस फैसले के विरोध में भारत ने हेग स्थित इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (आईसीजे) का दरवाजा खटखटाया था। आईसीजे ने जाधव की मौत की सजा पर रोक लगा दी थी।

कुभूषण जाधव मामले में भारत लगातार पाकिस्तान पर दबाव बनाए हुए है, जिससे जल्द से जल्द इस मामले में सुनवाई हो और कुलभूषण को वापस भारत लाया जा सके, आपको बता दें की भारत ने ICJ में सुनवाई के वक़्त ये कहा था की कुलभषण को रिहा कर दिया जाए लेकिन ICJ ने भारत के इस फैसले को सिरे से ख़ारिज कर दिया, वही कुलभूषण का केस लड़ने वाले वकील हरीश साल्वे ने इस केस के लिए मात्र एक रुपए ही लिए थे।

Facebook Comments