कारगिल विजय दिवस : मोदी बोले, कारगिल एक स्थान नहीं बल्कि तीर्थ स्थल है !

20-years-of-kargil-vijay-diwas-pm-modi-reaches-for-special-program

कारगिल विजय के 20 साल पूरे होने के अवस पर विशेष समारोह के लिए पीएम नरेंद्र मोदी दिल्ली के इंदिरा गांधी स्टेडियम पहुंचे, इस दौरान रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह भी मौजूद थे, यहाँ पीएम मोदी ने यहां कारगिल के शहीदों से जुड़ी प्रदर्शनी का अवलोकन किया.

अपने संबोधन में मोदी जी ने कहा की कारगिल में हमारे शहीदों ने जो किया वो हमारी पीढ़ियों को प्रभावित करती रहेगी, कारगिल की विजयगाथा प्रेरित करती रहेगी.

कारगिल में विजय भारत के वीर बेटे-बेटियों के अजेय पराक्रम की जीत थी, भारत के सामर्थ्य और संयम की जीत थी, भारत की मर्यादा और अनुशासन की जीत थी. कारगिल में विजय हर देशवासी की उम्मीदों और कर्तव्यपरायणता की जीत थी, युद्ध सरकारें नहीं लड़ती, युद्ध पूरा देश लड़ता है.

मैं 20 साल पहले करगिल तब भी गया था जब युद्ध अपने चरम पर था, दुश्मन ऊंची चोटियों पर बैठकर अपने खेल, खेल रहा था, एक साधारण नागरिक के नाते मैंने मोर्चे पर जुटे अपने सैनिकों के शौर्य को उस मिट्टी पर जाकर नमन किया था.

पाकिस्तान शुरू से ही कश्मीर को लेकर छल करता रहा, 1948, 1965, 1971 उसने यही किया लेकिन 1999 में उसका छल पहले की तरह फिर एक बार छल की छलनी कर दी गई.

भारत का इतिहास गवाह है कि भारत कभी आंक्राता नहीं रहा है, मानवता के हित में शांतिपूर्ण आचरण हमारे संस्कारों में है. हमारा देश इसी नीति पर चला है, भारत में हमारी सेना की छवि देश की रक्षा की है.

करगिल युद्ध के समय अटल जी ने कहा था कि हमारे पड़ोसी को लगता था कि करगिल को लेकर भारत प्रतिरोध करेगा, विरोध प्रकट करेगा और तनाव से दुनिया डर जाएगी लेकिन हम जवाब देंगे, प्रभावशाली जवाब देंगे उसकी उम्मीद उनको नहीं थी.

आज लड़ाइयां अंतरिक्ष तक पहुंच गई हैं और साइबर स्तर पर भी लड़ी जाती है इसलिए सेना को आधुनिक बनाना हमारी प्राथमिकता है..जल, थल, नभ सभी जगह हमारी सेना अपने उच्चतम शिखर को प्राप्त करने का सामर्थ्य रखे और आधुनिक बने, ये हमारा प्रयास है.

Facebook Comments