संसद में मंत्रियो की गैर मौजूदगी से नाराज़ है PM मोदी, मांगी रिपोर्ट !

PM Modi is angry with the absence of ministers in the Parliament, the report sought

देश में दोबारा पूर्ण बहुमत से सरकार बनाने के बाद भारतीय जनता पार्टी के ऊपर जनता ने जो भरोसा दिखाया है उसे PM मोदी तोडना नहीं चाहते, इसलिए अभी तक उनकी सरकार ने कुछ फैसलों पर अपना रुख सख्त दिखाते हुए विपक्ष को ये बताया है की अगर नियत साफ़ हो तो जनता आप पर भरोसा करती ही है.

PM Modi is angry with the absence of ministers in the Parliament, the report sought
PM Modi is angry with the absence of ministers in the Parliament, the report sought

दिल्ली में आज बीजेपी संसदीय दल की बैठक हुई इस बैठक में केंद्रीय गृह मंत्री और बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह, कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा, रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, संसदीय कार्य मंत्री प्रहलाद जोशी, विदेश मंत्री एस. जयशंकर, केंद्रीय मंत्री वी मुरलीधरन समेत कई नेता मौजूद रहे.

बैठक में लोकसभा और राज्यसभा के सभी सांसदों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संबोधित करते हुए कहा की  सांसदों को राजनीति से हटकर काम करना चाहिए उन्होंने कहा कि देश के सामने जल संकट है, इसलिए उसके लिए भी सांसदों को काम करना चाहिए.

PM Modi is angry with the absence of ministers in the Parliament, the report sought
PM Modi is angry with the absence of ministers in the Parliament, the report sought

आगे प्रधानमंत्री ने कहा, ‘अपने इलाके के अधिकारियों के साथ बैठक कर जनता की समस्याओं के बारे में बात करनी चाहिए, सांसदों और मंत्रियों को संसद में उपस्थित रहना चाहिए जिससे हम जनता की समस्याओं को और गहराई से जान सकेंगे.’

आगे PM ने कहा की जो मंत्री रोस्टर ड्यूटी में उपस्थित नहीं रहते हैं, उनके बारे में मुझे उसी दिन शाम तक मुझे बताया जाए PM मोदी ने सांसदों को कहा कि सरकारी काम और योजनाओ में बढ़ चढ़ कर भाग लें, सामाजिक कार्यों में हिस्सा लें, जब संसद चल रही हो तो सदन में उपस्थित रहें.

प्रधानमंत्री ने कहा कि सांसदों को अपने क्षेत्र में जाकर सरकार की योजनाओं के बारे में जनता को बताना चाहिए, क्यूंकि जो छाप पहली होती है वही आखिरी छाप होती है और सांसद अपने संसदीय क्षेत्र के लिए कोई एक इनोवेटिव काम करें, जिला प्रशासन के साथ मिलकर काम करें, राजनिति के साथ साथ सामाजिक काम करें.

Facebook Comments