साध्वी प्रज्ञा के छलके आंसु : बताई अपनी आप बीती, मारने वाले बदलते थे लेकिन पीटने वाली सिर्फ मैं थी

जैसा की आपको मालूम है बीजेपी ने भोपाल से दिग्विजय के खिलाफ साध्वी प्रज्ञा को इस बार के लोकसभा चुनाव में अपना उम्मीदवार बनाया है आपको बता दें की कल जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने साध्वी प्रज्ञा पर जमकर हमला बोला.

sadhvi-pragya-will-be-bjp-candidate-from-bhopal

दरअसल साध्वी प्रज्ञा को टिकट दिए जाने को लेकर बीजेपी पर भी निशान साधा और उन्होंने कहा कि साध्वी प्रज्ञा की जमानत रद्द होनी चाहिए, चुनाव लड़ने के लिए साध्वी प्रज्ञा की सेहत ठीक है? अगर उनकी तबियत ठीक है तो फिर जेल में डालो.

आपको बता दें कि साध्वी पहली बार तब चर्चा में आई थी जब 29 सितंबर 2008 को उत्तर महाराष्ट्र के मालेगांव में बम धमाका मामले में उन्हें गिरफ्तार किया गया था, बीजेपी की उम्मीदवार की औपचारिक घोषणा के बाद साध्वी ने कल स्थानीय लोगों के बीच एक सभा की जिसमें उन्होंने अपने ऊपर हुए अत्याचार की आपबीती सुनाई.

उन्होंने ने बताया की पुलिस बहुत बुरी तरह से मुझे टॉर्चर करती थी, उन्होंने पुलिस की पिटाई की बात करते हुए कहा कि दिन और रात पीटते थे, पीटते-पीटते गंदी गालियां तक देते थे वो कहलवाना चाहते थे कि तुमने एक विस्फोट किया है और मुस्लिमों को मारा है, पीटने वाले लोग बदल जाते थे लेकिन पिटने वाली मैं सिर्फ अकेले रहती थी.

आपको बता दें की मुंबई के मालेगांव बम ब्लास्ट में पीड़िता के पिता निसार सईद ने शिकायत दर्ज कराकर उनकी उम्मीदवारी रद्द करने की मांग की है, पीड़ित के पिता ने प्रज्ञा के स्वास्थ्य को लेकर सवाल उठाए हैं.

दरअसल 2008 में हुए मुंबई बम ब्लास्ट में निसार सईद ने अपने बेटे को खो दिया था, जिसके बाद आज एनआईए कोर्ट के न्यायाधीश वी.एस.पाडलकर ने एनआईए और प्रज्ञा से जवाब मांगा है कोर्ट सोमवार को इस पर सुनवाई करेगी.

Facebook Comments