भारत की बड़ी कूटनीतिक जीत : ग्लोबल आतंकी फंडिंग को रोकने के लिए यूएन ने प्रस्ताव पारित किया

big diplomatic win for india and pm modi UNSC propose to ban terror funding -last week UNSC showed its concern abhout teror camp in pakistan

पिछले गुरुवार को यूएन आतंकी फंडिंग पर रोक लगाने के लिए प्रस्ताव लाया। यूएन में फ्रांस के विदेश मंत्री ज्यां-यीव्स ला द्रियां आतंकी फंडिंग पर अपना प्रस्ताव पेश किया और यह प्रस्ताव पेश करते हुए उन्होंने बोला की आतंकवाद को जड़ से ख़त्म करने के लिए फंडिंग रोकना जरुरी है  और साथ ही में बिटकॉइन जैसे वर्चुअल मनी पर भी रोक लगनी चाहिए।

China’s Foreign Minister Wang Yi

वही चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेंग सुवांग ने बोला UNSC { United nations of security council } ने बलपूर्वक प्रस्ताव पारित किया है और साथ में पाकिस्तान ने भी चीन के सुर में सुर मिलाते हुए यही बात दोहराई।

आपको बता दे की पाकिस्तान की राजदूत मलीहा लोदी भी भारत की तरफ इशारा करते हुए बोली की सबसे महत्वपूर्ण बात यह है की भारत एफएटीफ़ और 1267 प्रतिबंधों को अपने भू राजनितिक उदेश्यों पूरा करने के लिए राजनितिक तौर पर इस्तेमाल ना करे और इसके साथ ही एक बार अपनी करतूतों से बाज ना आते हुए पाकिस्तान ने फिर से यूएन में कश्मीर का राग अलापा.

इसके बाद संयुक्त राष्ट्र में भारत के स्थायी सदस्य सैयद अकबरुदीन ने पाक को घेरते हुए कहा की आतंक के मसीहा खुद को पाक साबित करने में जुटे है, आगे उन्होंने कहां की पाकिस्तान की सरकार जैश ,लश्कर जैसे आतंकी गुटों पर कार्रवाई के नाम पर हमेशा ढीला रवैया अपनाती है और साथ ही उन्होंने आतंकियों के हथियार और साजो समान मुआयना कराने पर चिंता जाहिर किया।

iaf-operation-in-pakistan-after-pulwama-attack-balakot-jaish-camp-completely-destroyed

वैसे UNSC में आये इस प्रस्ताव को बड़ी कूटनीतिक जीत माना जा रहा है और पुलवामा हमले के बाद से ही हमारे प्रधान मंत्री मोदी जी को पूरी दुनिया से आतंक के खिलाफ हो रही इस लड़ाई में समर्थन हासिल हो रहा है और फंडिंग पर रोक इसकी एक शुरुआत मानी जा यही है और यह देश उम्मीद करता है की आने वाले समय में UN के दवाब में पाकिस्तान अपने यहाँ पल रहे आतंकियों पर कार्यवाही करे.

Facebook Comments