राहुल पर बरसे जेटली : बोले अपने पिता वाली गलती ना दोहराए

arun-jaitley-slams-rahul-gandhi-and-remind-his-fathers-mistake

कल रामलीला मैदान पर हुए सम्मलेन में राहुल गाँधी ने देश के मुसलमानों से यह वादा किया की अगर वो सत्ता में आते है तो तीन तलाक पर केंद्रीय सरकार द्वारा बनाये गये कानून को खत्म कर देगे और अब पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली ने कांग्रेस के इस रवैये पर राहुल गाँधी को लताड़ लगाई है.

rahul-gandhi-met-manohar-parrikar-today

अरुण जेटली ने fb पर एक पोस्ट की जिसमे उन्होंने कहा कि लोगों के जमीर को झकझोरने वाली बरेली की ‘निकाह हलाला’ जैसी घटनाओं को असंवैधानिक घोषित कर दिया जाना चाहिए.

क्या है बरेली की घटना –

दरअसल कुछ दिनों पहले खबरों में आया था की एक महिला को उसके पति ने दो बार तलाक दिया और फिर से उससे विवाह किया. इस दौरान महिला को दो बार निकाह-हलाला और इद्दत की मुद्दत का पालन करना पड़ा. पहले तलाक के बाद महिला का निकाह हलाला उसके ससुर के साथ हुआ जबकि दूसरी बार पति के भाई के साथ.

क्या होता है निकाह हलाला –

मुसलमानों में तलाक देने के बाद यदि कोई व्यक्ति पत्नी से फिर निकाह करना चाहता है तो महिला को निकाह-हलाला करना होता है. इसमें महिला को किसी दूसरे पुरुष के साथ निकाह कर, वैवाहिक संबंध बनाने होते हैं, फिर उससे तलाक लेना होता है. उसके बाद उसे इद्दत की मुद्दत पूरा करनी होती है.

अरुण जेटली क्या बोले –

arun-jaitley-said-it-is-a-fight-between-narendra-modi-and-anarchy

जेटली ने लिखा है, दुर्भाग्यवश, जब सुबह के अखबार में यह खबर पढ़ कर लोगों का जमीर जागना चाहिए था, अखिल भारतीय कांग्रेस समिति के अध्यक्ष और उनके साथी अल्पसंख्यक सम्मेलन में तीन तलाक पर सजा का प्रावधान करने वाला विधेयक वापस लेने का वादा कर रहे हैं.

आगे वो लिखते है की दिवंगत राजीव गांधी ने शाह बानो मामले में सुप्रीम कोर्ट का फैसला पलट कर विधायिका की सबसे बड़ी गलती की. कोर्ट ने उस फैसले में सभी मुसलमान महिलाओं को गुजारा भत्ता का अधिकार दिया था.

उन्होंने लिखा की एक गलती से पति द्वारा छोड़ दी गई महिलाओं को गरीबी और अभाव में ढकेल दिया. अब 32 साल बाद उनका बेटा पीछे धकेलने वाला और एक कदम उठा रहा है. जो ना सिर्फ उनको गरीबी की ओर धकेल रहा है बल्कि ऐसा जीवन जीने को मजबूर कर रहा है जो मानव अस्तित्व के विरुद्ध है.

Facebook Comments