अगर फिल्म इन्टरनेट पर डाली तो हो सकती है 3 साल की सजा

pm-approve-piracy-cinematography-act-1952-film-media

इस देश में बॉलीवुड इंडस्ट्री हर साल इस देश में लाखो रोजगार का निर्माण करती है क्यूंकि इस देश में फिल्मो को सिर्फ फिल्मे नहीं समाज का आइना माना जाता है, इस देश के बच्चे से लेकर बुजुर्ग तक सब सिनेमा के दीवाने है और हर साल बॉलीवुड फिल्मो से सरकार लाखो करोड़ो के टैक्स भी लेती है.

pm-approve-piracy-cinematography-act-1952-film-media

इस देश में अपना व्यापक प्रभाव रखने वाली बॉलीवुड इंडस्ट्री पिछले कुछ सालो से पायरेसी से जूझ रही है, पायरेसी का मतलब यह की किसी भी इंसान ने किसी भी सिनेमा हाल से फिल्म रिकॉर्ड की और उसे इन्टरनेट पर डाल दिया, उसका सबसे बड़ा नुकसान यह होता था की लोग उस फिल्म को देखने थिएटर में नहीं जाते थे और फिल्म के साथ साथ सरकार को भी अपने रेवन्यू में नुकसान होता था.

pm-approve-piracy-cinematography-act-1952-film-media

वर्तमान की नरेन्द्र मोदी सरकार ने इस देश के सिनेमा जगत के लिए एक बहुत बड़ा निर्णय लिया है, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल ने सिनेमैटोग्राफी एक्ट 1952 में बदलाव को मंजूरी दे दी है. एक्ट के 6 एए में एक नई धारा जोड़ी जाएगी.

pariksha-pe-charcha-2-pm-modi-interaction-with-students

इसके बाद किसी भी फिल्म को बिना प्रोड्यूसर या कंपनी की अनुमति के रिकॉर्ड करना जुर्म होगा. ऐसा करने पर संबंधित आरोपित को 3 साल की कैद या 10 लाख रुपए तक का जुर्माना या दोनों सजा का प्रावधान होगा.

Facebook Comments