फिर बढ़ा इंतज़ार : राम मंदिर पर अगली सुनवाई अब 29 जनवरी को

ravishankar-prasad-on-ram-mandir-issue-says-it-should-be-solved-as-soon-as-possible

सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या मामले में आज सुनवाई 29 जनवरी तक के लिए टाल दी है वही जस्टिस यू यू ललित संविधान पीठ से अलग हो गए, जस्टिस यू.यू ललित पर राजीव धवन ने सवाल उठाए थे. आपको बता दें कि जस्टिस यू.यू ललित कल्याण सिंह के लिए पेश हुए थे और अब चीफ जस्टिस रंजन गोगोई अब इस मामले पर नई बेंच बनाएंगे.

अभी मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच सदस्यीय संविधान पीठ में न्यायमूर्ति एसए बोबडे, न्यायमूर्ति एनवी रमण, न्यायमूर्ति उदय यू ललित और न्यायमूर्ति धनन्जय वाई चन्द्रचूड़ शामिल थे, वही आज अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई शुरू होने के बाद कोर्ट ने कहा कि आज सुनवाई नहीं होगी। सिर्फ तारीख और शेड्यूल तय किया जाएगा।

आज सुप्रीम कोर्ट ने रजिस्ट्री को आदेश दिया है कि सभी दस्तावेजों का ट्रांसलेशन कराया जाए. क्योंकि दस्तावेज कई अलग-अलग भाषाओं में है, आपको बता दे की सात भाषाओं में दस्तावेजों का अनुवाद हुआ है और आठ हजार पन्नों से ज्यादा दस्तावेज है.

मामले पर बोलते हुए चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि अब सुनवाई को रद्द करने के अलावा कोई भी चारा नहीं है. अब सुनवाई के लिए किसी नए जज को शामिल किया जाएगा. लेकिन मामला फिलहाल टल गया है.

ram-temple-hearing-in-supreme-court-will-resume-from-10th-january

बताते चले की इलाहाबाद हाईकोर्ट ने इस मामले में 2010 में अपना फैसला सुनाते हुए 2.77 एकड़ भूमि का सुन्नी वक्फ बोर्ड, निर्मोही अखाड़ा और राम लला के बीच समान रूप से बंटवारा करने का आदेश दिया था. तीनों ही पक्षों ने इसे सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है.

 

Facebook Comments