राज्य सभा में कैसे पास होगा आरक्षण बिल : समझिये पूरा गणित !

3
rajya-sabha-passes-124th-constitution-amendment-bill

कल यानी मंगलवार का दिन ऐतिहासिक रहा, सामाजिक और आर्थिक रूप से पिछड़े सवर्ण गरीबों के लिए लाए गए 10 फीसदी आरक्षण वाला बिल लंबी चर्चा और उसके बाद हुई वोटिंग के बाद पास हो गया है, लोकसभा में कुल 323 लोगों ने बिल के समर्थन में वोट दिया, जबकि तीन सदस्यों ने इसके विरोध में वोटिंग की.

भाजपा के समर्थन का आधार मानी जाने वाली अगड़ी जातियों की लंबे समय से मांग थी कि उनके गरीब तबकों को भी आरक्षण का लाभ दिया जाए। सरकार आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग के लिए संवैधानिक संशोधन विधेयक 2018 लोकसभा में पेश हुआ और इस विधेयक के जरिए संविधान की धारा 15 व 16 में बदलाव किया जाएगा।

लोकसभा की परीक्षा में तो मोदी सरकार पास हो गई लेकिन अब बारी आई है राज्यसभा की और आज राज्य सभा ने ये बिल पेश किया जाएगा। इसके लिए खास तौर से सदन के सत्र को एक दिन के लिए बढ़ाया गया है और सरकार को पूरी उम्मीद है की राज्य सभा में यह बिल पास हो जाएगा, तो आइये समझते है राज्य सभा के गणित –

constitution-ammendment-bill-have-passed-in-lok-sabha

राज्यसभा में सांसदों की मौजूदा संख्या 244 है। बिल पास कराने के लिए दो तिहाई सांसदों यानि 163 के वोट जरूरी होंगे। सदन में बीजेपी के 73 सांसदों समेत एनडीए के कुल 88 सांसद हैं।

कांग्रेस के 50, समाजवादी पार्टी के 13, बीएसपी-एनसीपी के 4-4 और आम आदमी पार्टी के 3 सांसद हैं। इन सभी पार्टियों के 74 सांसदों के आंकड़े को जोड़कर बिल का समर्थन करने वाले कुल सांसदों का आंकड़ा 162 होता है।

terms-and-condition-for-10-reservation

इसके अलावा राज्यसभा में टीएमसी और एआईएडीएमके के 13-13 सांसद, बीजेडी के 9, टीडीपी के 6 और टीआरएस के भी 6 सांसद हैं, इनमे से किसी भी पार्टी के 3 या 4 सांसदों का समर्थन इस बिल को पास करवा सकता है, इसलिए कुल मिलाकर यह माना जा रहा है की मोदी सरकार आज राज्य सभा में भी इस बिल को पास करवाने ने कामयाब होगी.

इससे पहले कल शाम को सदन में संबोधन के दौरान जेटली ने कहा कि यह आरक्षण बिल सबका साथ, सबका विकास को सुनिश्चित करता है. उन्होंने इसे समानता के लिए उठाया गया कदम बताया है. जेटली ने कहा कि यह बिल समाज का उत्थान करेगा.

 

Facebook Comments