#Metoo मूवमेंट पर असरानी का बयान, कहा- ये सब बकवास है

आधे इधर जाओ आधे इधर बाकी मेरे पीछे आओ. ये लाइन आपने कई बार सुनी होगी. तो जान लीजिये इस लाइन के किरदार ने #Metoo मूवमेंट पर क्या बयान दे दिया है. दरअसल एक्टर असरानी ने इस मूव मेंट को साफ तौर पर बकवास करार दिया है. असरानी का कहना है कि इंडस्ट्री में अक्सर ऐसी बातें सिर्फ मीडिया अटेंशन पाने के लिए ही की जाती है. असरानी से जब इस विषय में पूछा गया तो उन्होंने कहा कि अक्सर फिल्मों के प्रमोशन के लिए भी ऐसी बातें की जाती हैं इसलिए इन ‘बकवास’ बातों पर ध्यान नही देना चाहिए.

77 साल के एक्टर असरानी ने अब तक कई फ़िल्में की हैं जिसमे उन्होंने यादगार किरदार निभाया है. आपको याद होगा फिल्म शोले का उनका किरदार जिसमें उन्होंने जेलर का एक बेहतरीन किरदार निभाया था. न्यूज़ एजेंसी एएनआई से बातचीत में असरानी से जब सवाल किया गया  तो उन्होंने कहा,

मैं महिलाओं का बेहद सम्मान करता हूँ, सभी को करना भी चाहिए लेकिन अधिकतर इस तरह की बातें झूठी पब्लिसिटी पाने के लिए की जाती है. अक्सर फिल्मों को चर्चा में लाने के लिए या उनके प्रोमोशन्स के लिए भी ऐसी झूठी ख़बरें फैलाई जाती हैं. ये साडी बातें बकवास हैं और 100 में से 90 बातें झूठी होती हैं. ये सभी बात सिर्फ मीडिया में बेचने और खबरों में छपने के लिए की जाती हैं.

इससे पहले अनु कपूर से भी जब इससे जुडा सवाल किया गया था तब उन्होंने भी इसी तरह तनुश्री की कहानी को सबूत के पेश करने को कहा था. उनका कहना था

किसी पर भी आरोप लगाना बेहद आसान होता है लेकिन अगर ये संगीन हरकत किसी ने की है तो बिना सबूत और गवाह के बात न की जाए. में महिलाओं का बहुत सम्मान करता हूँ. देश में एक कानून है जिसकी एक प्रक्रिया है. तनुश्री को इस 10 साल में एक बार तो कम से कम पुलिस के पास जाना था. मीडिया में बयान देकर सुर्खियाँ बटोर कर शांत हो जाना इससे तो किसी का दोष साबित नहीं हो पायेगा.

खैर, #Metoo पर अब तक लिखी गई कई कहानियों में कौन से हकीकत है और कौन सी अफसाना ये तो एक जांच का विषय है लेकिन हाँ इतना ज़रूर है कि इस विवाद और मूवमेंट पर बॉलीवुड से लेकर पत्रकारिता और कॉर्पोरेट जगत तक दो हिस्सों में बंट चूका है. देखना होगा कि आने वाले समय में ये मूवमेंट और किस किस के चहरे से पर्दा हटाता है.

Facebook Comments