ग्राहकों की एक गलती से मालामाल हो रहा SBI

ग्राहकों की एक गलती की वजह से भारतीय स्टेट बैंक दिनों दिन मालामाल होता जा रहा है। ग्राहकों से हो रही छोटी छोटी गलतियों पर उनके खातों से पैसे काटे जा रहे हैं और ग्राहकों को बिना वजह चपत लग रही है। खबरों के अनुसार भारतीय स्टेट बैंक ने चेक पर ग्राहक के हस्ताक्षर मैच नहीं होने की वजह से पिछले 40 महीनों में 38 करोड़ 80 लाख रुपए की कमाई की है। बता दें कि चैक पर हस्ताक्षर मैच न होने की हालत में बैंक ग्राहक के खाते से कुछ रुपए काटता है।

खाते से कटते हैं 157 रुपए
एक रिपोर्ट के मुताबिक भारतीय स्टेट बैंक ने पिछले 40 महीने में 24 लाख 71 हजार 544 लाख चेक हस्ताक्षर नहीं मिलने के कारण लौटाए हैं। एक आरटीआई के जवाब में बैंक ने माना कि कोई भी चेक रिटर्न हो तो बैंक 150 रुपए चार्ज करता है और इस पर जीएसटी भी लगाता है यानी हर रिटर्न चेक पर खातेदार को 157 रुपए भुगतने पड़ते हैं।

रिपोर्ट में यह भी बताया गया है कि वित्त वर्ष 2017-18 में सिर्फ हस्ताक्षर नहीं मिलने की वजह से खाताधारकों के खाते से 11.9 करोड़ रुपए काटे गए हैं।

मिनिमम बैलेंस न रखने पर कमाए थे 1771 करोड़ रुपए
इससे पहले जनवरी में वित्त मंत्रालय के आंकड़ों में बताया गया था कि एसबीआई ने अप्रैल से लेकर नवंबर 2017 तक मिनिमम बैलेंस न रखने वाले ग्राहकों से 1771 करोड़ रुपए चार्ज के तौर पर वसूले थे।

Facebook Comments