भारतीय सेना के जवानो को जल्द खुद खरीदनी पड़ेगी अपनी वर्दी…..

भारतीय सेना ने सरकारी ऑर्डनंस (आयुध) फैक्ट्रियों से अपनी खरीदारी में भारी कटौती करने का फैसला किया है। यह फैसला छोटे युद्धों की स्थिति में फौरी तौर पर महत्वपूर्ण गोलाबारूद खरीदने के लिए पैसा बचाने के उद्देश्य से किया गया है। रिपोर्ट के मुताबिक आर्डनंस फैक्ट्रीज से सप्लाई होने वाले प्रॉडक्ट्स को 94 फीसदी से कम करके 50 फीसदी पर लाया जाएगा। सेना को यह कदम इसलिए उठाना पड़ रहा है क्योंकि केंद्र ने गोलाबारूद की आपातकालीन खरीदारी के लिए अतिरिक्त फंड नहीं दिया

दरअसल केंद्र ने गोला-बारूद की आपातकालीन खरीदारी के लिए अतिरिक्त फंड जारी नहीं किया है जिसके चलते सैनिकों को यूनिफॉर्म व अन्य कपड़े खरीदने के लिए अपने पैसे खर्च करने पड़ेंगे। दरअसल केंद्र ने गोला-बारूद की आपातकालीन खरीदारी के लिए अतिरिक्त फंड जारी नहीं किया है जिसके चलते सैनिकों को यूनिफॉर्म व अन्य कपड़े खरीदने के लिए अपने पैसे खर्च करने पड़ेंगे।

Facebook Comments