Home दुनिया कभी नहीं सुधरेगा पाकिस्तान, हटाये हाफ़िज़ पर लगाये प्रतिबंध

कभी नहीं सुधरेगा पाकिस्तान, हटाये हाफ़िज़ पर लगाये प्रतिबंध

6 second read
0
0
54

आतंकियों को लेकर पाकिस्तान की हमदर्दी एकबार फिर दुनिया के सामने बेनकाब हो गई है। संयुक्त राष्ट्र द्वारा घोषित आतंकवादी और 26/11 हमलों के मास्टरमाइंड हाफिज सईद पर पाकिस्तान ने फिर दरियादिली दिखाई है। हाफिज के संगठन जमात उद-दावा (JuD) और फलाह-ए-इंसानियत फाउंडेशन (FIF) को पाकिस्तान ने प्रतिबंधित संगठनों की सूची से हटा दिया है। गौर करने वाली बात यह है कि पूर्व राष्ट्रपति ने अध्यादेश जारी कर हाफिज के खिलाफ यह ऐक्शन लिया था, लेकिन अब पाकिस्तान की नई हुकूमत उसे आगे बढ़ाना नहीं चाहती है। आपको बता दें कि आतंकवाद पर नरमी की वजह से न केवल पाकिस्तान की साख को बट्टा लगा है बल्कि अमेरिका से मिलने वाली मदद पर भी कैंची चल गई है। इमरान सरकार से आतंकियों के खिलाफ कड़ा ऐक्शन लेने की उम्मीद भी खत्म हो गई है।

बिस्तर पर अपनी आखिरी साँसें गिन रहा है आतंकी मसूद अजहर!

फरवरी में पाकिस्तान के पूर्व राष्ट्रपति ममनून हुसैन ने एक अध्यादेश के जरिए आतंकवाद विरोधी अधिनियम 1997 में संशोधन किया था। इसके बाद उन आतंकवादियों और संगठनों को प्रतिबंधित कर दिया गया, जिनका नाम संयुक्त राष्ट्र की सुरक्षा परिषद की लिस्ट में दर्ज था। JuD और FIF भी इसी अध्यादेश के जरिए प्रतिबंधित किए गए।

इमरान सरकार ने अध्यादेश को आगे नहीं बढ़ाया

सईद द्वारा दाखिल की गई याचिका के अनुसार, उसके वकील रिजवान अब्बासी और सोहेल ने इस्लामाबाद हाई कोर्ट को गुरुवार को बताया कि अध्यादेश अब वैध नहीं है क्योंकि पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ सरकार ने इसे आगे नहीं बढ़ाया है। डॉन की रिपोर्ट के मुताबिक वैश्विक आतंकी घोषित हाफिज ने उस अध्यादेश को चुनौती दी थी, जिसके तहत उसके संगठनों को ब्लैकलिस्ट किया गया। अपनी याचिका में सईद ने दावा किया था कि अध्यादेश पाकिस्तान की संप्रभुता और संविधान के खिलाफ जारी किया गया।

सईद के वकील ने हाई कोर्ट के जज आमेर फारुक को सूचित किया है कि अध्यादेश को मौजूदा सरकार ने न तो आगे बढ़ाया और न ही इसे पाकिस्तान की संसद में पेश किया गया, जिससे यह ऐक्ट बन सके। इस पर जज ने कहा कि सईद की अर्जी का कोई मतलब नहीं है क्योंकि सरकार ने अध्यादेश को आगे ही नहीं बढ़ाया है। आपको बता दें कि भारत और अमेरिका के दबाव में पाकिस्तान की सरकार ने आतंकियों और उनसे जुड़े संगठनों के डोनेशन जुटाने पर भी रोक लगाई थी।

Load More Related Articles
Load More By Tushar Kaushik
Load More In दुनिया

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

1971 हीरो: नहीं रहे ब्रिगेडियर चांदपुरी, 2000 दुश्मनों को चटाई थी धूल

बॉर्डर फिल्म में सनी देओल ने जिस असल किरदार को निभाया था आज वो असल किरदार हम सभी को नम आँख…