Home बड़ी ख़बर 31 घंटे बाद बोरवेल से सुरक्षित निकाली गई 3 साल की सना, रेस्क्यू ऑपरेशन सफल

31 घंटे बाद बोरवेल से सुरक्षित निकाली गई 3 साल की सना, रेस्क्यू ऑपरेशन सफल

0 second read

दुआओं ने दिखाया रंग और मुंगेर शहर के मुर्गियाचक चौक मोहल्ले में 110 फीट गहरे बोरवेल में 30 घंटे से फंसी मासूम सना ने जीत ली जिंदगी की जंग।

दरअसल मंगलवार की शाम गिरी तीन साल की सना को 30 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद बुधवार रात को बचा लिया गया। वह बेरवेल में 42 फीट पर फंसी हुई थी। संकरा जगह होने के कारण खुदाई का कार्य बहुत सावधानी पूर्वक किया गया। 43 फीट गहरी खुदाई बुधवार को सात बजे तक हो चुकी थी। इसके बाद एल आकार को लेकर 11 फीट की खुदाई की गई। ये खुदाई इतनी कठिन थी कि इसमें लगभग तीन घंटे का समय लग गया। मंगलवार की रात से ही भागलपुर एवं खगड़िया की एसडीआरएफ की टीम इस काम में लगी हुई थी। एनडीआरएफ की टीम ने भी काम में सहयोग किया। राहत दल की ओर से सना को लगातार ऑक्सीजन का फ्लो दिया गया।

एनडीआएएफ की टीम हाई फ्रीक्वेंसी की माइक के माध्यम से सना की उसकी मां और उसके पिता से बात करवाते रहे। सदर अस्पताल के डॉक्टर फैज ने कहा था कि बच्ची का स्वास्थ्य ठीक है। पूरी उम्मीद है कि बच्ची सुरक्षित बाहर निकलेगी और वह सुरक्षित बाहर निकल गई। उधर, मुंगेर के कमिश्नर पंकज कुमार पाल एवं डीआईजी जितेन्द्र कुमार मिश्र घटनास्थल पर लगातार कैंप करते रहे।

बच्ची को बचाने का मुश्किल भरा था अभियान
बोरवेल में 42 फीट पर अटकी मासूम सना को सकुशल बाहर निकालने के लिए युद्धस्तर पर शुरू किया गया रेस्क्यू मुश्किल भरा था। घर के अंदर बोरवेल से 11 फीट दूर सड़क पर बोरवेल के सामांतर गड्ढा करने के लिए जेसीबी और पोपलेन मशीन लगाई गई थी। घनी आबादी वाले इस इलाके में सड़क के दोनों ओर बने मकान को भी नुकसान न पहुंचे इस बात पर भी ध्यान रखा जा रहा था।

कमिश्नर पंकज पाल, डीआईजी जीतेन्द्र कुमार मिश्र, एसपी गौरव मंगला, डीडीसी रामेश्वर पांडेय सहित पुलिस प्रशासन के सभी वरीय अधिकारी कैंप कर रहे थे। अधिकारी हो या आम जनता सब यही दुआ कर रहे थे। रेस्क्यू सफल हो और बच्ची सकुशल बाहर निकल आए। रात आठ बजे अभियान में तब थोड़ी रुकावट आई जब बच्ची का पैर केंसिग मे फंस गया। पैर निकालने को लेकर एसडीआरएफ की टीम को दूसरी रणनीति अपनानी पड़ी। इस रणनीति के तहत केसिंग को काटकर बच्ची को बाहर निकाला गया। रात नौ बजकर 41 मिनट पर सफलता मिली। सना को निकालने में लगभग 150 पुलिसकर्मियों और 50 मजदूरों का सहयोग लिया गया।

Load More Related Articles
Load More By SwenToday News Desk
Load More In बड़ी ख़बर
Comments are closed.

Check Also

स्मृति स्थल पर अटल जी का अंतिम संस्कार, बेटी नमिता ने दी मुखाग्नि

16:56(IST) अंतिम संस्कार अटल जी की दत्तक पुत्री नमिता भट्टाचार्य कर रही हैं. The last rite…