Home दुनिया Singapore Summit: ट्रम्प ने कहा-किम अपने देश से बहुत प्यार करते हैं

Singapore Summit: ट्रम्प ने कहा-किम अपने देश से बहुत प्यार करते हैं

3 second read

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरियाई नेता किम जोंग उन के बीच सिंगापुर में जारी ऐतिहासिक शिखर वार्ता खत्‍म हुई. इस बैठक का उद्देश्य द्विपक्षीय संबंधों को सामान्य बनाना और कोरियाई प्रायद्वीप में पूर्ण परमाणु निरस्त्रीकरण है. ट्रंप और किम के बीच यह मुलाकात सिंगापुर के लोकप्रिय पर्यटन स्थल सेंटोसा के एक होटल में हुई. मौजूदा अमेरिकी राष्ट्रपति और एक उत्तर कोरियाई नेता के बीच हो रही यह पहली शिखर वार्ता ट्रंप और किम के बीच कभी बेहद तल्ख रहे रिश्तों को भी बदलने वाली साबित होगी. वार्ता की पूर्व संध्या पर अमेरिका ने ‘‘पूर्ण, सत्यापित और अपरिवर्तनीय’’ परमाणु निरस्त्रीकरण के बदले उत्तर कोरिया को ‘विशिष्ट’ सुरक्षा गारंटी की पेशकश की थी. व्हाइट हाउस ने इस बात की पुष्टि की है कि राष्ट्रपति ट्रंप और किम के बीच पहले अकेले बैठक होगी जिसमें सिर्फ अनुवादक मौजूद हैं. अमेरिका ने इस बात पर जोर दिया है कि उसे कोरियाई प्रायद्वीप में पूर्ण परमाणु निरस्त्रीकरण से कम कुछ भी मंजूर नहीं है. उत्तर कोरिया की आधिकारिक संवाद समिति ने रविवार को कहा था कि किम वार्ता के दौरान ‘‘परमाणु निरस्त्रीकरण’’ और ‘‘स्थायी शांति’’ के लिये बातचीत को तैयार हैं. ट्रंप ने शनिवार को कहा था कि किम के पास इतिहास रचने का ‘‘एक मौका’’ है.

ट्रंप और किम की बैठक के LIVE UPDATES

– अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि बातचीत उम्मीद से कहीं बेहतर हुई है. कोई भी जितना उम्मीद कर सकता है उससे बेहतर बातचीत हुई है. उन्‍होंने कहा कि हम दोनों के बीच बेहतर रिश्ते है और हम मिलकर बड़ी समस्या का हल करेंगे. हम साथ मिलकर काम करेंगे और हर तरह से उत्तर कोरिया का ध्यान रखेंगे. हमारे रिश्ते शानदार रहेंगे. ट्र्रंप ने कहा कि अब हमलोग समझौते पर दस्तख़त के लिए जा रहे हैं.कुछ ही मिनटों पर एलान कर देंगे कि क्या समझौते हुए.

– अमेरिकी राष्‍ट्रपति और डोनाल्‍ड ट्रंप के बीच कई समझौतों पर हुए साइन

ट्रंप ने किम के साथ द्विपक्षीय बैठक के बाद कहा कि शानदार बैठक रही और काफी प्रगति हुई. उन्‍होंने कहा कि वह और किम किसी समझौते पर ‘हस्ताक्षर’ करेंगे.

– किम के साथ बातचीत के बाद ट्रंप ने पत्रकारों से कहा कि हमारी बातचीत अच्छी रही. अब दोनों देशों के बीच डेलिगेशन लेवल की बैठक चल रही है.

– अमेरिका और उत्‍तर कोरिया के डेलिगेशन की बैठक जारी है.

– अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप और उत्‍तर कोरिया के शासक किम जोंग उन की बीच बैठक खत्‍म, करीब 50 मिनट चली बैठक

– बैठक से पहले ट्रंप ने कहा कि दोनों देशों के रिश्ते अच्छे होंगे और किम से अच्छी बात होगी. उन्‍होंने कहा कि पुराने मतभेद भूलाकर हम आगे आ चुके हैं.

– वहीं उत्‍तर कोरिया के शासक किम जोंग उन ने कहा कि यहां पहुंचना आसान नहीं था और बाधाओं को दूर कर हमारी मुलाक़ात हो रही है.

– सिंगापुर में किम-ट्रंप की ऐतिहासिक बैठक शुरू, अमेरिकी राष्‍ट्रपति ट्रंप ने कहा- अच्‍छी बातचीत की उम्‍मीद

– सिंगापुर में मिले अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप और उत्‍तर कोरिया के शासक किम जोंग उन

– अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप सेंटोसा द्वीप पहुंचे, जहां उत्‍तर कोरिया के किम उन जोंग से करेंगे मुलाकात

– किम जोंग उन का काफिला सेंटोसा द्वीप पहुंचा. जहां किम की अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के साथ एक शिखर सम्मेलन आयोजित किया गया है. राष्ट्रपति ट्रंप शिखर सम्मेलन स्थल पर मौजूद है.

– किम जोंग काफी गुपचुप तरीक़े से सिंगापुर पहुंचे हैं. वो उत्तर कोरिया के प्लेन से नहीं बल्कि एयर चाइना के प्लेन से सिंगापुर पहुंचे. उसकी ये तस्वीरें सामने आई हैं.

– ये भी काफी दिलचस्प है कि दोनो नेताओं की उम्र में भी काफी फर्क है, जहां डोनाल्ड ट्रंप 71 साल के हैं वहीं किम जोंग उनसे आधी उम्र के हैं. सिर्फ 34 साल के हैं. इस सबके बावजूद अब पूरी दुनिया चाहती है कि दोनो नेताओं की 12 जून को होने वाली मुलाकात खुशनुमा माहौल में हो और बातचीत से शांति का रास्ता निकले.

– इस मुलाक़ात को लेकर उन सभी जगहों की लगभग किलेबंदी कर दी गई है जहां इन दोनों नेताओं का मूवमेंट होना है.

– हर जगह आधुनिक हथियारों से लैस सुरक्षाकर्मियों का पहरा है. चप्पे-चप्पे पर नज़र रखी जा रही है.

टिप्पणियां – सिंगापुर के पीएम लूंग से मुलाकात के बाद किम जोंग ने कहा कि शिखर सम्मेलन में कोई समझौता होता है तो सिंगापुर को इतिहास याद रखेगा

Load More Related Articles
Load More By SwenToday News Desk
Load More In दुनिया
Comments are closed.

Check Also

काम आई सिद्धू की ‘हग डिप्लोमेसी’, करतारपुर कॉरीडोर खोलने को राजी हुअा पाकिस्तान

पाकिस्तान में नवजोत सिंह सिद्धू के गले मिलने की डिप्लोमेसी का अब असर देखने को मिल रहा है। …