Home बिहार गंगा को प्रदूषित करने वाले 70 शहरों में 32 बिहार के

गंगा को प्रदूषित करने वाले 70 शहरों में 32 बिहार के

0 second read

केंद्रीय जल संसाधन, नदी विकास और गंगा संरक्षण मंत्री नितिन गडकरी ने दावा किया है कि मार्च 2019 तक 70 से 80 फीसदी गंगा निर्मल हो जाएगी। उन्होंने कहा कि देश के 70 शहर गंगा को प्रदूषित कर रहे हैं, इसमें बिहार के 32 शहर शामिल हैं। यहां नमामि गंगे अभियान के तहत विशेष तरह की परियोजनाएं संचालित होंगी।

गडकरी वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए गुरुवार को गंगा किनारे के प्रमुख शहरों के पत्रकारों से रूबरू थे। उन्होंने बताया कि 1809 कंपनियां और फैक्ट्रियां गंगा को प्रदूषित कर रहीं हैं। ऐसी फैक्ट्रियों के प्रदूषित पानी को रोकने और गंगा की सफाई के लिए 214 परियोजनाएं संचालित हैं। इनमें से 41 अब तक पूरी हो चुकी हैं। निर्मल और अविरल गंगा के लिए गंगा किनारे अब तक 10 हजार पौधे लगाए जा चुके हैं।

गंगा सफाई के लिए 20 हजार करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है। राशि की कमी नहीं है। फिर भी शीघ्र ही राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, मंत्री, सांसद, विधायक और विधान पार्षद को पत्र लिखकर गंगा सफाई के लिए एक माह वेतन देने की अपील करेंगे।

 मैली गंगा के लिए देश के 10 शहर सबसे अधिक जिम्मेदारगडकरी ने कहा कि गंगा किनारे बसे 10 औद्योगिक नगरों के कारण ही गंगा में प्रदूषण का स्तर इतना अधिक बढ़ा है। 10 बड़े शहर गंगा के प्रदूषण के लिए मूल रूप से जिम्मेदार हैं, जिनमें कानपुर का रेकॉर्ड सबसे खराब है। इस दौरान केंद्रीय पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री उमा भारती और सत्यपाल सिंह मौजूद थे।

बिहार के 32 शहरों के गंगा घाटों का कायाकल्प होगा

बिहार के नमामि गंगे परियोजना से 32 शहरों के गंगा घाटों का कायाकल्प होगा। घाटों का पक्कीकरण, संपर्क पथ, कम्युनिटी टॉयलेट, चेंजिंग रूम और पार्क समेत अन्य तरह की सुविधाएं विकसित होंगी। नमामि गंगे के तहत विकसित की जाने वाली सभी सुविधाओं के निर्माण कार्य खर्च केंद्र सरकार उठाएगी।

 

Load More Related Articles
Load More By SwenToday News Desk
Load More In बिहार
Comments are closed.

Check Also

स्मृति स्थल पर अटल जी का अंतिम संस्कार, बेटी नमिता ने दी मुखाग्नि

16:56(IST) अंतिम संस्कार अटल जी की दत्तक पुत्री नमिता भट्टाचार्य कर रही हैं. The last rite…