Home दुनिया ब्रिटिश प्रधानमंत्री का बयान, जासूस को जहर देने के पीछे हो सकता है रूस

ब्रिटिश प्रधानमंत्री का बयान, जासूस को जहर देने के पीछे हो सकता है रूस

1 second read

पूर्व रूसी जासूस सर्गेई स्क्रिपल और उनकी बेटी को ज़हर देने के मामले में ब्रिटेन की प्रधानमंत्री टेरीज़ा मे ने सांसदों से कहा है कि जिस प्रकार का नर्व एजेंट हमले में इस्तेमाल किया गया था वो सैन्य-ग्रेड का और रूस द्वारा निर्मित था। प्रधानमंत्री ने कहा है कि सरकार इस निष्कर्ष पर पहुंची है कि सेलिस्बरी हमले के लिए रूस के ज़िम्मेदार होने की बहुत अधिक संभावना है।

विदेश कार्यालय ने रूसी राजदूत से इस पर सफ़ाई मांगी है। प्रधानमंत्री मे ने कहा है कि मंगलवार के अंत तक यदि ‘विश्वसनीय प्रतिकिया’ नहीं मिलती है तो ब्रिटेन इसको रूस द्वारा ‘शक्ति के ग़ैर-क़ानूनी प्रयोग’ के तौर पर मानेगा। टेरीज़ा मे ने सीधे कहा, “या तो यह रूसी राष्ट्र द्वारा हमारे देश पर सीधा हमला है या फिर रूसी सरकार नर्व एजेंट पर नियंत्रण खो चुकी है और उसने उसे दूसरे लोगों के हाथों में जाने की अनुमति दी है। उन्होंने कहा कि विदेश सचिव बोरिस जॉनसन ने रूस के राजदूत को नोविचोक कार्यक्रम की पूरी जानकारी रासायनिक शस्त्र निषेध संगठन को देने को कही है।

मे ने कहा कि ब्रिटेन को अधिक व्यापक उपायों के लिए तैयार रहना चाहिए। 66 साल के रिटायर्ड सैन्य ख़ुफ़िया अधिकारी स्क्रिपल और उनकी 33 वर्षीय बेटी सेलिस्बरी सिटी सेंटर में एक बेंच पर बेहोशी की हालत में मिले थे. अभी भी उनकी हालत गंभीर बनी हुई है। रूसी विदेश मंत्रालय ने टेरीज़ा मे के बयान को एक तरह की परीकथा बताया है. लेकिन यूरोपीय संघ और अमरीका ने ब्रिटेन का पक्ष लिया है। अमरीकी राष्ट्रपति के कार्यालय व्हाइट हाउस ने हमले की निंदा की है, जबकि यूरोपीय संघ के वाइस प्रेसिडेंट फ़्रांस टिमरमैन्स ने इस मौके पर ब्रिटेन के साथ पूरी एकजुटता दिखाई है।

Load More Related Articles
Load More By SwenToday News Desk
Load More In दुनिया
Comments are closed.

Check Also

काम आई सिद्धू की ‘हग डिप्लोमेसी’, करतारपुर कॉरीडोर खोलने को राजी हुअा पाकिस्तान

पाकिस्तान में नवजोत सिंह सिद्धू के गले मिलने की डिप्लोमेसी का अब असर देखने को मिल रहा है। …